Education

कोरोना देश में: 74% एक्टिव केस देश के 9 राज्यों से, इन्हीं राज्यों में सबसे ज्यादा मौतें; अब दिल्ली एयरपोर्ट पर भी हो सकेगी कोरोना की जांच; देश में अब तक 46.63 लाख केस

 

  • देश में अब तक 77 हजार 537 लोगों की मौत हुई, 9.61 लाख का इलाज चल रहा
  • शुक्रवार को देश में रिकॉर्ड 97 हजार 654 नए मरीज बढ़े, 81 हजार 455 लोग ठीक भी हुए

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक्टिव केस के आंकड़े जारी किए हैं। इसके मुताबिक देश में 74% एक्टिव केस यानी ऐसे मरीज जिनका अभी इलाज चल रहा है वो देश के 9 राज्यों में हैं। सबसे ज्यादा 28% मरीज महाराष्ट्र से हैं।

दूसरे नंबर पर कर्नाटक है जहां 11% और तीसरे पर आंध्र प्रदेश है जहां 10% एक्टिव केस है। इसके अलावा उत्तर प्रदेश में 7%, तमिलनाडु में 5%, ओडिशा में 4%, तेलंगाना, असम और छत्तीसगढ़ में 3-3% एक्टिस केस हैं। बाकी 26% मरीज देश के अन्य राज्य या केंद्र शासित राज्यों से हैं। देश में एक्टिव केस की संख्या अभी 9 लाख 61 हजार 370 है। इन्हीं 9 राज्यों में सबसे ज्यादा 81% मरीजों की मौत भी हो चुकी है।

उधर, दिल्ली के इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट देश का पहला एयरपोर्ट बन गया है जहां कोरोना की जांच की सुविधा शुरू हो गई है। दिल्ली इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड ने शनिवार को इसकी शुरुआत कर दी। यहां कोई भी यात्री अपनी कोरोना जांच करवा सकेगा।

देश में मरीजों का आंकड़ा 46.60 लाख हुआ

देश में अब तक 46 लाख 63 हजार 930 लोग संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं। शुक्रवार को 24 घंटे में रिकॉर्ड 97 हजार 654 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए। एक दिन में मिले संक्रमितों का यह आंकड़ा सबसे ज्यादा है। इसके पहले गुरुवार को 96 हजार 760 नए मरीज मिले थे।

इस बीच, राहत की बात है कि मरीजों के ठीक होने की रफ्तार भी तेज होने लगी है। शुक्रवार को रिकॉर्ड 81 हजार 455 लोगों को अस्पताल से डिस्चार्ज किया गया। एक दिन में ठीक होने वालों की ये सबसे ज्यादा संख्या है। इसी के साथ ठीक होने वालों की संख्या अब 36 लाख 24 हजार 375 हो गई है। संक्रमण के चलते अब तक 77 हजार 537 लोग जान गंवा चुके हैं।

कोवैक्सीन का एनिमल ट्रायल सफल

कोरोना वैक्सीन को लेकर एक अच्छी खबर है। इंडियन काउंसिल फॉर मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) के साथ मिलकर कोरोना की स्वदेशी वैक्सीन ”कोवैक्सिन” बना रही भारत बायोटेक ने वैक्सीन के एनिमल ट्रायल के सफल होने की जानकारी दी है। कंपनी की तरफ से ट्वीट में कहा गया कि ”भारत बायोटेक गर्व से ‘कोवैक्सीन’ के एनिमल स्टडी के रिजल्ट की घोषणा करता है। यह रिजल्ट लाइव वायरल से प्रोटेक्ट करता है और इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाता है।”

मुंबई में डॉक्टर्स ने जताया विरोध

उधर, कोरोना मरीजों के इलाज में जुटे मुंबई के रेजिडेंट डॉक्टर्स ने छुट्‌टी के नियमों में किए गए बदलाव पर विरोध जताया है। डॉक्टर्स ने शनिवार को काली पट्‌टी बांधकर काम करना शुरू किया। बता दें कि महाराष्ट्र सरकार ने कोरोना के इलाज में लगे डॉक्टर्स को अब हफ्ते में एक दिन छुट्‌टी देने का ऐलान किया है, जबकि पहले कुछ दिन लगातार काम करने के बाद डॉक्टर्स को 7 दिन क्वारैंटाइन में रहने की छूट दी जाती थी।

  • कोरोना अपडेट्स
    • ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (डीसीजीआई) ने कोरोना वैक्सीन के फेज-2 और 3 के ट्रायल में किसी नए मरीज की भर्ती पर रोक लगा दी है। शुक्रवार को डीसीजीआई ने इसके लिए आदेश जारी कर दिया। अगले आदेश तक ट्रायल के लिए किसी नए मरीज की भर्ती न की जाए। इस नोटिस के जवाब में सीरम इंस्टीट्यूट ने कहा कि जब तक वैक्सीन की सुरक्षा की स्थिति साफ नहीं होती है, तब तक किसी नए मरीज पर ट्रायल नहीं किया जाएगा।
    • कोरोना से स्वस्थ हो चुके मरीजों के दोबारा संक्रमित होने के मामले बढ़ने लगे हैं। अब तक गुजरात, पंजाब, कर्नाटक, महाराष्ट्र, दिल्ली और तेलंगाना में ऐसे मामले सामने आ चुके हैं। दोबारा संक्रमण में कितनी सच्चाई है और यदि है तो यह कैसे हो रहा है? इसकी वैज्ञानिक जांच के लिए भारत सरकार ने पहली बार किसी मरीज के दो सैंपल, यानी पहले संक्रमण और दूसरे संक्रमण का नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (पुणे) भेजे हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय से मिली जानकारी के मुताबिक इस स्टडी के लिए दिल्ली के एक मरीज के सैंपल पुणे भेजे गए हैं।
    • दिल्ली-एनसीआर में शनिवार से मेट्रो की सभी रूट पर ट्रेनें चलने लगीं। इसकी शुरूआत 7 सितंबर से हुई थी। तब यलो लाइन शुरू की गई थी। इसके बाद तीन अलग-अलग फेज में ब्लू, पिंक व अन्य लाइन भी शुरू की गई थीं। अब मेट्रो को पूरी तरह से खोल दिया गया है। इस बीच, दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन ने शिवाजी स्टेडियम से प्री-पेड ऑटो सर्विस भी शुरू करने का फैसला लिया है। शनिवार से ही दिल्ली एयरपोर्ट मेट्रो स्टेशन के यात्री यहां से ऑटो पकड़ सकेंगे।
    • पुणे में बगैर मास्क घर से बाहर निकलने वालों पर 500 रुपए का जुर्माना लगाया जाएगा। पुणे के नगर निगम कमीश्नर ने शुक्रवार को इसके लिए आदेश जारी कर दिया।
    • पंजाब सरकार ने नीट 2020 को देखते हुए 13 सितंबर को लॉकडाउन में छूट का ऐलान किया है। हालांकि, इस दौरान गैर-जरूरी दुकानें बंद रखने का आदेश है।
    • केंद्रीय रेल राज्य मंत्री सुरेश अगाड़ी की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। उन्होंने ट्वीट करके इसकी जानकारी दी।
    • मुंबई की मेयर किशोरी किशोर पेडनेकर भी संक्रमित हो गई हैं। उन्होंने ट्वीट पर इसकी जानकारी दी।
    • इलाहाबाद हाईकोर्ट में 14 और 15 सितंबर को कोई भी ज्यूडिशियल और एडमिनिस्ट्रेटिव काम नहीं होंगे। कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए यह फैसला लिया गया। इन दो दिनों में पूरे परिसर को सैनिटाइज कराया जाएगा।

     

 

कंगना के मुंबई पहुंचने से पहले बवाल:एक्ट्रेस के ऑफिस में 2 घंटे तोड़फोड़ के बाद BMC की कार्रवाई पर हाईकोर्ट की रोक, कंगना बोलीं- मुंबई को PoK कहकर गलती नहीं की

  • कंगना ने कहा- महाराष्ट्र सरकार और उसके गुंडे मेरी प्रॉपर्टी पर अवैध कार्रवाई करने पहुंचे हैं
  • बीएमसी ने कहा कि नोटिस मिलने के बाद भी कंगना ने काम जारी रखा, इसलिए फौरन कार्रवाई की गई

कंगना रनोट के हिमाचल से मुंबई पहुंचने से पहले जमकर बवाल हुआ। वे करीब पौने तीन बजे मुंबई पहुंचीं। इसके पहले बीएमसी ने उनके मुंबई स्थित ऑफिस में अवैध निर्माण को लेकर 24 घंटे में दूसरा नोटिस भेजा। फिर बीएमसी की एक टीम जेसीबी मशीन, क्रेन और हथौड़े लेकर ऑफिस पहुंच गई और कंस्ट्रक्शन तोड़ा। टीम ने कार्रवाई सुबह 10.30 बजे से दोपहर 12.40 बजे तक की। कंगना का यह ऑफिस बांद्रा के पाली हिल में है। इसे 48 करोड़ रुपए खर्च कर बनवाया है। यहां उनके प्रोडक्शन हाउस मणिकर्णिका फिल्म्स का ऑफिस है।

एक्ट्रेस ने बीएमसी की इस कार्रवाई के खिलाफ बॉम्बे हाईकोर्ट में अपील की। कोर्ट ने सुनवाई के बाद कार्रवाई पर रोक लगा दी और बीएमसी से इस मामले में जबाव दाखिल करने को कहा। उधर, कंगना के वकील रिजवान सिद्दीकी ने कहा कि बीएमसी ने जो नोटिस दिया, वो अवैध था। कर्मचारी अवैध तरीके से ही परिसर में दाखिल हुए। साफ समझ में आता है कि बीएमसी पहले से ही बिल्डिंग गिराने के लिए तैयार थी। अब हाईकोर्ट में गुरुवार दोपहर 3 बजे सुनवाई होगी।

कार्रवाई गैर-जरूरी थी: पवार

राकांपा प्रमुख शरद पवार ने इस कार्रवाई पर कहा कि यह कार्रवाई गैर-जरूरी थी। यह देखना होगा कि बीएमसी ने यह फैसला क्यों लिया है। इस कार्रवाई से कंगना को पब्लिसिटी मिलेगी।

कंगना ने शिवसेना से कहा- याद रख बाबर, यह मंदिर फिर बनेगा

कंगना ने इस कार्रवाई पर लगातार 5 ट्वीट किए। उन्होंने कहा, ‘यह एक इमारत (ऑफिस) नहीं, राम मंदिर है, आज वहां बाबर आया है। उन्होंने कहा कि दुश्मनों ने साबित किया कि मुंबई को पीओके कहकर गलती नहीं की।’

दरअसल, एक्ट्रेस ने मुंबई की तुलना पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) से की थी, जिसके बाद विवाद खड़ा हो गया था। केंद्र ने उन्हें Y कैटेगरी की सुरक्षा दी है, इस दौरान 11 सुरक्षाकर्मी हमेशा उनके साथ रहेंगे।

#newspravakta #newsupdate #India

अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव:ट्रम्प का गैरकानूनी सुझाव: कहा- नॉर्थ कैरोलिना के लोग दो बार वोटिंग करें, एक बार बैलेट से और दूसरी बार पोलिंग स्टेशन जाकर; इससे सिस्टम की जांच हो जाएगी

  • ट्रम्प ने कहा कि अगर सिस्टम मजबूत होगा तो लोग दोबारा वोट नहीं डाल पाएंगे
  • अमेरिकी राष्ट्रपति लगातार मेल-इन बैलट वोटिंग पर सवाल उठाते रहे हैं

अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव में मेल वोटिंग का राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प लगातार विरोध कर रहे हैं। बुधवार को उन्होंने अजीब सुझाव दिया। कहा- नॉर्थ कैरोलिना के लोगों को दो बार वोटिंग करके इलेक्शन सिस्टम की सिक्योरिटी की जांच करनी चाहिए। हालांकि, अमेरिकी राष्ट्रपति का यह सुझाव गैरकानूनी है। लेकिन, ट्रम्प का कहना है कि इससे वोटिंग सिस्टम की सही जांच हो सकेगी।

इससे सिस्टम की परख होगी

मीडिया से बातचीत के दौरान ट्रम्प ने लोगों को बैलट वोटिंग और चुनाव के दिन खुद जाकर वोट डालने के लिए भी कहा। उन्होंने कहा, ‘‘उन्हें बैलट भेजने दें और साथ ही वोटिंग के लिए भी जाने दें। दावा किया जाता है कि हमारा सिस्टम मजबूत है। अगर ये सच है तो लोग दोबारा वोट नहीं डाल पाएंगे। और अगर इस सिस्टम में कोई खामी है तो लोग दो बार भी वोटिंग कर देंगे।’’

ट्रम्प का सुझाव गैरकानूनी

एक ही चुनाव में दो बार वोटिंग गैरकानूनी है। लेकिन, ट्रम्प का यह सुझाव सहयोगियों से चर्चा के बाद आया है। अमेरिका में कोरोना के चलते बैलट से वोटिंग करने वालों की संख्या बढ़ रही है। ट्रम्प इसका विरोध कर रहे हैं। उनका कहना है कि मेल-इन बैलट वोटिंग में बड़े पैमाने पर धोखाधड़ी हो सकती है।

सही सलाह, लेकिन उलझन ज्यादा

ट्रम्प के सलाहकारों ने उन्हें बताया कि सभी तरह के मेल इन बैलट का विरोध न करें। क्योंकि, इससे वे बुजुर्ग और बीमार समर्थकों के वोट खो सकते हैं। इन सलाहकारों ने ट्रम्प से यूनिवर्सल मेल वोटिंग और एब्सेंटी वोटिंग के बीच अंतर करने को कहा है।

एब्सेंटी वोटिंग उन लोगों के लिए होती है जो विकलांग हैं या अपने घर से दूर हैं। उन्हें वोटिंग से पहले एक फॉर्म भरना होता है। इसमें यह बताना होता है कि वे किस वजह से पोलिंग स्टेशन नहीं आ सकते। इसके बाद चुनाव आयोग उन्हें बैलेट पेपर भेजता है। इसके जरिए वे वोटिंग करते हैं। यूनिवर्सल मेल वोटिंग का मतलब है कि हर कोई घर से ही वोट दे सकता है। इसके लिए कोई कारण नहीं पूछा जाता।

दोहरी वोटिंग संभव नहीं

अटार्नी जनरल विलियम बार ने ट्रम्प के बयान पर कुछ भी कहने से इनकार कर दिया। हालांकि, राज्यों के पास दोहरी वोटिंग से बचने के लिए कई तरीके हैं। नॉर्थ कैरोलिना स्टेट बोर्ड ऑफ इलेक्शन की वेबसाइट में कई तरह के सुरक्षा उपायों के बारे में जानकारी दी गई है। पिछले साल एक इंटरव्यू में वॉशिंगटन के सचिव किम वियान ने कहा था कि कोई भी वोटर दोबारा मतदान नहीं कर सकता। वॉशिंगटन में 2018 में मेल वोटिंग से ही चुनाव हुए थे। वियान ने कहा, ‘‘हम उन लोगों की लिस्ट निकाल सकते हैं, जिन्होंने एक से ज्यादा बार वोटिंग की होगी। 2018 में डाले गए 35 लाख बैलट में से लगभग 100 लोगों ने एक से ज्यादा बार वोटिंग की थी।’’

JEE परीक्षा शुरू:छात्र मास्क और ग्लव्स पहनकर एग्जाम सेंटर पहुंचे, सोशल डिस्टेंसिंग के लिए गोल घेरे बनाए गए; पिताजी के साथ 100 किमी सफर तय कर परीक्षा देने आई छात्रा

  • एग्जाम सेंटर पर कोविड के नियमों का पालन करने के लिए छात्रों की लंबी लाइन देखी गई
  • JEE परीक्षा छह सितंबर तक चलेगी, इसके लिए देशभर में 660 परीक्षा सेंटर बनाए गए हैं

नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा (जेईई-मेन्स) देशभर में मंगलवार से शुरू हो गई है। ये परीक्षा छह सितंबर तक होगी। इसके लिए देशभर में 660 परीक्षा सेंटर बनाए गए हैं। पहले दिन सेंटर पर कोरोना से बचाव और सुरक्षा के इंतजाम देखने को मिले। छात्र-छात्राएं भी परीक्षा केंद्रों पर पूरी एहतियात के साथ देखे गए। वे अपने साथ हैंड सैनिटाइजर लेकर आए। इसके अलावा, छात्र मास्क और फेस शील्ड लगाकर पहुंचे।

परीक्षा में 8.58 लाख स्टूडेंट्स का रजिस्ट्रेशन है। पहले दिन दो पारियों में सुबह 9 से दोपहर 12 बजे और दोपहर तीन से शाम 6 बजे तक परीक्षा होगी। परीक्षार्थियों को दिए गए एडमिट कार्ड में बताए गए कोरोना और अन्य 22 निर्देशों का पालन करना है। परीक्षा केंद्र में सभी व्यवस्थाएं टचलेस हैं। इस बार कोड से स्टूडेंट्स के एडमिट कार्ड चेक किए गए। सेंटर से 20 मीटर दूरी तक ही गाड़ियों को पहुंचने की अनुमति दी गई।

एग्जाम सेंटर पर ये अरेंजमेंट किए गए

  • परीक्षा के दौरान सेंटर पर थ्री लेयर मास्क मिले। इसे पहनने के बाद ही एंट्री मिली। मप्र, ओडिशा, छत्तीसगढ़ सरकारों ने स्टूडेंट्स को परीक्षा केंद्रों तक लाने और ले जाने की मुफ्त वाहन व्यवस्था की। मप्र के विद्यार्थी 181 पर कॉल कर वाहन की सुविधा ले सकते हैं।
  • 50 एमएल सैनिटाइजर की ट्रांसपेरेंट बॉटल स्टूडेंट्स साथ लेकर जा सकेंगे। किसी छात्र का तापमान 99.4 डिग्री से ज्यादा हुआ तो उसे आइसोलेशन रूम में 10 मिनट रखा जाएगा। इसके बाद भी यदि तापमान ज्यादा रहा, तो उसे आइसोलेशन रूम में ही परीक्षा दिलवाई जाएगी।

मध्यप्रदेश
भोपाल में 4 सेंटर बनाए गए हैं। हर केंद्र में करीब 240 बच्चे एग्जाम दे सकते हैं। परीक्षा केंद्रों पर पहुंचे अभिभावकों ने प्रदेश सरकार द्वारा छात्र-छात्राओं को लाने और ले जाने की व्यवस्था की पोल खोली। अभिभावकों का कहना था कि व्यवस्था तो दूर की बात रही, कॉल ही नहीं लगा। इसके कारण तनाव भी आया और गुस्सा भी, लेकिन बच्चों के भविष्य का सवाल था। इसलिए फिर खुद ही उन्हें लेकर सेंटर तक पहुंचे।

भोपाल से करीब 100 किलोमीटर दूर शाजापुर के कालापीपल से दिनेश अपनी बेटी को लेकर अयोध्या बायपास स्थित कॉलेज में बने जेईई एग्जाम सेंटर पहुंचे। उन्होंने बताया- एक दिन पहले समाचारों के जरिए सरकार द्वारा बच्चों को सेंटर तक पहुंचाने के लिए गाड़ियों का इंतजाम किए जाने की जानकारी मिली थी। इसके लिए टोल फ्री नंबर 181 पर हम लगातार कॉल करते रहे, क्योंकि उसमें रजिस्ट्रेशन कराना जरूरी था। कोई जवाब ही नहीं मिला। फिर बाइक से बेटी को एग्जाम दिलाने पहुंचे।

 

कोरोना पर मोदी का ऐलान:प्रधानमंत्री ने कहा- भारत में 3 कोरोना वैक्सीन की टेस्टिंग अलग-अलग चरणों में है, हर भारतीय तक कम समय में वैक्सीन पहुंचाने की तैयारी पूरी

  • प्रधानमंत्री ने कहा- देश के हमारे वैज्ञानिक ऋषि-मुनियों की तरह जी-जान से जुटे हुए हैं, वे कड़ी मेहनत कर रहे हैं
  • ‘भारत में तीन वैक्सीन टेस्टिंग के अलग-अलग चरण में हैं, जब वैज्ञानिकों से हरी झंडी मिलेगी तो बड़े पैमाने पर प्रोडक्शन होगा’

74वां स्वतंत्रता दिवस कोरोना काल में आया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वायरस की रोकथाम को लेकर घोषणा की। उन्होंने कहा कि भारत में कोरोना वैक्सीन की टेस्टिंग अलग-अलग चरणों में है। हर भारतीय तक कम समय में वैक्सीन पहुंचाने की पूरी तैयारी है।

माना जा रहा था कि स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लाल किले की प्राचीर से मोदी वैक्सीन को लेकर बड़ा ऐलान कर सकते हैं। प्रधानमंत्री ने इसे लेकर स्थिति साफ कर दी।

लाल किले पर क्या बोले मोदी?

‘‘कोरोना की वैक्सीन कब तैयार होगी, यह बड़ा सवाल है। देश के हमारे वैज्ञानिक ऋषि-मुनियों की तरह जी-जान से जुटे हुए हैं। वे कड़ी मेहनत कर रहे हैं। भारत में एक-दो नहीं बल्कि तीन-तीन वैक्सीन टेस्टिंग के अलग-अलग चरण में हैं। जब वैज्ञानिकों से हरी झंडी मिलेगी तो बड़े पैमाने पर प्रोडक्शन होगा। इसकी तैयारियां पूरी हैं। हर भारतीय तक वैक्सीन कम से कम समय में कैसे पहुंचे, इसका खाका भी तैयार है।’’

तीनों वैक्सीन अभी क्या स्थिति?

  • इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च के मुताबिक भारत बायोटेक की कोवैक्सिन और जायडस कैडिला की ZyCoV-D के पहले चरण का क्लीनिकल ट्रायल हो चुका है। जल्द ही दूसरे फेज का ट्रायल शुरू होगा।
  • ऑक्सफोर्ड वैक्सीन के दूसरे और तीसरे फेज के क्लीनिकल ट्रायल को मंजूरी मिल चुकी है। एक हफ्ते के अंदर 17 जगहों पर इसका परीक्षण होगा।

Bollywood Choreographer Saroj Khan Dies At 71

Bollywood Choreographer Saroj Khan Dies At 71

Mumbai: 

Veteran Bollywood choreographer Saroj Khan, who mentored generations of actors and was fondly known as “Masterji“, died early this morning. She was admitted to Mumbai’s Guru Nanak Hospital on June 20 after complaining of difficulty in breathing and died of cardiac arrest. She was 71.

The three-time National Award winner had choreographed some of the most memorable songs in Hindi cinema.

The mandatory COVID-19 test done at the hospital showed a negative result.

“She passed away due to cardiac arrest at around 2:30 am at the hospital,” Ms Khan’s nephew Manish Jagwani told news agency PTI.

“Her last rites are over. I just attended and got back,” choreographer Remo D’Souza told NEWS PRAVAKTA.

Saroj Khan, who has won three National Awards for Best Choreography for her work in Devdas, Jab We Met and the 2007 Tamil film Shringaram, is credited with choreographing more than 2,000 songs.

In a career spanning over four decades, she has choreographed some of the most popular Bollywood tracks such as Ye Ishq Haaye featuring Kareena Kapoor from the 2007 film Jab We Met, Ek Do Teen featuring Madhuri Dixit from Tezaab, Dola Re Dola from Sanjay Leela Bhansali’s Devdas, starring Aishwarya Rai Bachchan, Madhuri Dixit and Shah Rukh Khan.