India

कंगना के ऑफिस में तोड़फोड़ का मामला:एक्ट्रेस के खिलाफ शिकायत, बोलीं- गुंडों ने तोड़ा मेरा घर, शिवसेना बनी सोनिया सेना; कुछ देर में हाईकोर्ट में सुनवाई

  • बताया जा रहा है कि राज्यपाल कोश्यारी ने कंगना का ऑफिस गिराए जाने के मामले में मुख्यमंत्री के सलाहकार से रिपोर्ट मांगी है
  • हाईकोर्ट ने बीएमसी से 9 सितंबर को कंगना के ऑफिस में की गई तोड़फाेड़ के संबंध में जवाब दाखिल करने को कहा था

एक्ट्रेस कंगना रनोट के ऑफिस में तोड़फोड़ की कार्रवाई के संबंध में गुरुवार को हाईकोर्ट में सुनवाई होनी है। बुधवार को बीएमसी ने कंगना के ऑफिस में तोड़फोड़ की थी। इसी दौरान उनके वकील रिजवान सिद्दीकी ने बॉम्बे हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। कोर्ट ने बीएमसी की कार्रवाई पर स्टे लगा दिया था।

वहीं, आज मुंबई के विक्रोली पुलिस स्टेशन में कंगना के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई गई। शिकायतकर्ता वकील नितिन माने ने कंगना पर सीएम उद्धव ठाकरे के लिए आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल करने और उन्हें बदनाम करने के लिए ‘बॉलीवुड माफिया’ के साथ संबंध जोड़ने का आरोप लगाया। एक्ट्रेस ने बुधवार को एक वीडियो मैसेज में सीएम के नाम से पहले आपत्तिजनक शब्द कहा था।

कार्रवाई के दूसरे दिन भी कंगना के तीखे तेवर

गुरुवार सुबह कंगना ने तीन ट्वीट कर शिवसेना, सीएम उद्धव ठाकरे और बीएमसी पर निशाना साधा।

पहला ट्वीट

 

 

 

 

 

 

 

दूसरा ट्वीट

तीसरा ट्वीट

इस बीच, कंगना की बहन रंगोली पाली हिल्स स्थित ऑफिस में हुई तोड़फोड़ का जायजा लेने पहुंची। बताया जा रहा है कि राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने इस मामले में मुख्यमंत्री के सलाहकार से जवाब तलब किया है। वे इस कार्रवाई की रिपोर्ट केंद्र को भी भेज सकते हैं।

इससे पहले गुरुवार को कंगना के वकील ने कोर्ट में दलील देते हुए बीएमसी की कार्रवाई को गैरकानूनी, मनमानी, दुर्भावनापूर्ण बताया था। हाईकोर्ट ने बीएमसी को निर्देश दिया कि वह 9 सितंबर को तोड़फाेड़ के आदेश को चुनौती देने वाली याचिका पर जवाब दाखिल करें। बुधवार को जब तक कोर्ट का स्टे ऑर्डर आया, तब तक कंगना के ऑफिस का एक बड़ा हिस्सा गिराया जा चुका था।

सामने आया बीएमसी का दोहरा रवैया
कंगना के ऑफिस को तोड़ने से पहले सोमवार को फैशन डिजाइनर मनीष मल्होत्रा के बंगले पर अवैध निर्माण को लेकर ‘कारण बताओ नोटिस’ जारी किया गया था। बीएमसी ने उन्हें 7 दिन का समय दिया था और कंगना को सिर्फ 24 घंटे का वक्त दिया गया। नोटिस में मल्होत्रा के बंगले में अवैध निर्माण की बात भी कही गई है।

राकांपा प्रमुख पवार ने कहा- मुंबई में कई अवैध निर्माण हैं
बीएमसी की कार्रवाई शिवसेना सरकार पर उल्टे दांव की तरह पड़ती नजर आ रही है। महाराष्ट्र में शिवसेना की गठबंधन सरकार में सहयोगी दल कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) ने इस विवाद से पल्ला झाड़ लिया है। राकांपा अध्यक्ष शरद पवार ने कहा कि बीएमसी की कार्रवाई ने अनावश्यक रूप से कंगना को बोलने का मौका दे दिया है। मुंबई में कई अन्य अवैध निर्माण हैं। यह देखने की जरूरत है कि अधिकारियों ने यह निर्णय क्यों लिया।

कंगना के बहाने राष्ट्रपति शासन की मांग

मुंबई के कंगना के ऑफिस में हुई तोड़फोड़ के मामले को आधार बनाकार अब राज्य में राष्ट्रपति शासन की मांग उठाई जा रही है। अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की बहन श्वेता सिंह कीर्ति और झारखंड के जमशेदपुर पूर्वी से विधायक सरयू राय ने राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग की है। अभिनेता की बहन ने ट्वीट कर कहा,”हे भगवान! यह कैसा गुंडा राज है। इस तरह का अन्याय बिल्कुल भी नहीं सहना चाहिए। क्या राष्ट्रपति शासन इस अन्याय का जवाब हो सकता है? चलो दोबारा राम राज स्थापित करते हैं।”

सरयू राय ने बीएमसी की कार्रवाई को जंगलराज बताया है। साथ ही महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग की है।

#NEWSPRAVAKTA #UPDATES #India

गैंगस्टर मुख्तार मलिक का घर तोड़ने पहुंची निगम टीम; पत्नी ने रोका, पूर्व पार्षद ने भी हंगामा किया, पुलिस ने हिरासत में लिया

  • पूर्व पार्षद और कांग्रेस नेता शाबिस्ता जकी भी मौके पर पहुंची थीं, पुलिस ने घर तोड़ने से रोकने और हंगामा करने पर श्यामला हिल्स थाने में बिठा लिया
  • मुख्तार मलिक को भोपाल पुलिस ने मंगलवार को रायसेन में एक ढाबे से गिरफ्तार किया था, उस पर 50 से ज्यादा केस

भोपाल के कुख्यात बदमाश गैंगस्टर मुख्तार मलिक के श्यामला हिल्स इलाके में अहाता रुस्तम खान स्थित मकान को तोड़ने की कार्रवाई बुधवार सुबह जिला प्रशासन और नगर निगम की टीम ने शुरू की। ये मकान मुख्तार की पत्नी शीबा मलिक के नाम पर है। दोमंजिला बने मकान को तोड़ने पहुंचे अमले को देखकर मुख्तार की पत्नी शीबा मलिक ने हंगामा शुरू कर दिया। महिला पुलिसकर्मियों की मदद से शीबा को हटाया गया। मंगलवार को मुख्तार को रायसेन के गौहरगंज स्थित ढाबे से गिरफ्तार किया गया था।

कुछ देर बाद पूर्व पार्षद और कांग्रेस नेता शाबिस्ता जकी भी कार्रवाई का विरोध करने पहुंच गईं। नगर निगम और जिला प्रशासन के अफसरों से कहासुनी के बाद पुलिस ने शाबिस्ता जकी को हिरासत में ले लिया और श्यामला हिल्स थाने में बिठा लिया। सूत्रों का कहना है कि पिछले एक सप्ताह से मलिक के अवैध मकान को तोड़ने की प्लानिंग जिला प्रशासन और नगर निगम की टीम कर रही थी। लेकिन मुख्तार की गिरफ्तार नहीं होने के चलते ये कार्रवाई को रोक दिया गया था। अमला जेसीबी और ड्रिलिंग मशीनें लगाकर मकान को जमींदोज करने में जुटा है। शाम को 4 बजे तक कार्रवाई चलेगी। इसके बाद गुरुवार को भी कार्रवाई जारी रहने की उम्मीद है।

 

शाबिस्ता जकी ने कहा- घर तोड़ना असंवैधानिक
कांग्रेस नेता आसिफ जकी और पूर्व पार्षद शबिस्ता जकी को पुलिस ने हिरासत में लिया है। दोनों लोग मुख्तार मालिक के मकान तोड़ने का विरोध कर रहे थे। पूर्व पार्षद शाबिस्ता जकी का कहना है कि इस मकान का न्यायालय में केस चल रहा है। इसलिए इसे तोड़ना असंवैधानिक है।

माफिया अभियान में मकान को सील किया गया था
पिछले साल तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने माफियाओं के खिलाफ अभियान चलाया था। इस दौरान जिला प्रशासन की टीम ने मुख्तार मलिक के इस घर को सील कर दिया था। मलिक के खिलाफ भोपाल और रायसेन जिले के 16 थानों में 50 से ज्यादा गंभीर केस दर्ज हैं।

मंगलवार को रायसेन में एक ढाबे से गिरफ्तार हुआ था बदमाश
54 वर्षीय मुख्तार मलिक रायसेन जिले के गौहरगंज इलाके में फरारी काट रहा है। पुलिस की एक विशेष टीम ने उसके जंगल पैराडाइज नामक ढाबे पर छापा मारा था। यहां आरोपी हमेशा अपने साथ हथियार रखता था। तलाशी लेने पर उसके पास एक पिस्टल, दो मैगजीन और 25 कारतूस मिले।

 

एयरपोर्ट पर नारेबाजी के बीच घर पहुंचीं कंगना, कहा- उद्धव ठाकरे! आज मेरा घर टूटा है, कल तेरा घमंड टूटेगा, यह वक्त का पहिया है, याद रखना

  • एक्ट्रेस कंगना रनोट के खिलाफ एयरपोर्ट पर शिवसेना के कार्यकर्ताओं ने नारेबाजी की
  • कंगना ने कहा- ठाकरे! यह जो क्रूरता और आतंक मेरे साथ हुआ है, उसके कुछ मायने हैं

मुंबई को ‘पीओके’ कहने के विवाद के बीच एक्ट्रेस कंगना रनोट बुधवार दोपहर 2:45 बजे मुंबई पहुंचीं। इस दौरान एयरपोर्ट पर भारी हंगामा हुआ। उनके समर्थक और विरोधी आमने-सामने आ गए। उन्हें वीआईपी गेट की बजाय दूसरे गेट से बाहर निकाला गया। वे एयरपोर्ट से सीधे खार स्थित अपने घर पहुंचीं। फिलहाल, एक्ट्रेस की सुरक्षा के लिए उनके घर के बाहर 50 से ज्यादा पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं।

घर पहुंचते ही उन्होंने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को चुनौती दी। कहा, ‘आज मेरा घर टूटा है, कल तेरा घमंड टूटेगा, जय महाराष्ट्र। उद्धव ठाकरे! तुझे क्या लगता है, तूने फिल्म माफिया के साथ मिलकर मेरा घर तोड़कर मुझसे बहुत बड़ा बदला लिया है। तुमने बहुत बड़ा एहसान किया है। मुझे पता तो था कि कश्मीरी पंडितों पर क्या बीती होगी। आज मुझे इस बात का एहसास हुआ है। आज मैं आपको एक वादा करती हूं कि मैं सिर्फ अयोध्या पर ही नहीं, कश्मीर पर भी एक फिल्म बनाऊंगी। अपने देश के लोगों को जगाऊंगी। ठाकरे, यह जो क्रूरता और आतंक मेरे साथ हुआ है, उसके कुछ मायने हैं। जय हिंद। जय भारत।’

एयरपोर्ट पर भारी हंगामा हुआ
इससे पहले, एयरपोर्ट पर शिवसेना के कार्यकर्ताओं ने कंगना के खिलाफ नारेबाजी की। उधर, रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया और करणी सेना उनके समर्थन में उतर आई। इन पार्टियों के समर्थक एयरपोर्ट पर मौजूद थे।

कंगना के मुंबई पहुंचने से पहले एयरपोर्ट पर सुरक्षा के सख्त इंतजाम किए गए थे। उनकी सुरक्षा में मुंबई पुलिस के फील्ड मार्शल, सीआईएसएफ और मुंबई पुलिस के 24 से ज्यादा जवान तैनात किए गए।

बीएमसी ने कंगना के मुंबई स्थित ऑफिस में अवैध निर्माण को तोड़ा
बुधवार सुबह बीएमसी ने अवैध निर्माण को लेकर कंगना के ऑफिस पर बुलडोजर चलाया। सुबह 10.30 बजे शुरू हुई यह कार्रवाई दोपहर 12.40 बजे तक चली। इस कार्रवाई के दौरान ऑफिस के बाहरी हिस्से से बालकनी और अंदर के बने निर्माण को बुरी तरह से तोड़ा गया है। इस दौरान आसपास रहने वाले कुछ लोगों ने इस तोड़फोड़ का विरोध भी किया। हालांकि, बॉम्बे हाईकोर्ट ने बीएमसी की कार्रवाई पर अगले आदेश तक रोक लगा दी है। मामले में अगली सुनवाई गुरुवार 3 बजे होगी।

शरद पवार ने कहा- यह कार्रवाई गैर जरुरी थी
इस बीच, राकांपा प्रमुख शरद पवार ने इस कार्रवाई को गलत बताया। उन्होंने कहा कि मुंबई में और भी अवैध निर्माण हैं और यह कार्रवाई गैर जरुरी है। यह देखना होगा कि बीएमसी ने यह फैसला क्यों लिया। इस कार्रवाई से कंगना को बोलने का मौका मिला है। भाजपा नेता आशीष शेलार ने इसे बदले की भावना से की गई कार्रवाई करार दिया है।

शिवसेना ने कहा- बदले की भावना से कार्रवाई नहीं की
शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा कि हमने बदले की भावना से कोई कार्रवाई नहीं की है। शिवसेना कभी भी बदले की भावना से कोई कार्रवाई नहीं करती है। कंगना ने मुंबई के बारे में गलत कहा। शिवसेना कभी कटघरे में खड़ी नहीं होती है। उधर, भाजपा नेता आशीष शेलार ने इसे बदले की भावना से की गई कार्रवाई करार दिया। उन्होंने कहा कि यह टाउन प्लानिंग के कारण की गई कार्रवाई नहीं है। हम इसका विरोध करते हैं।

#newspravakta #newsupdate #India

 

80 दिन तक आईपीएल की ‘बायो-बबल’ में अपनी अलग दुनिया होगी, इसके बाहर कोई नहीं जा सकता, अंदर आने से पहले खिलाड़ियों को देने पड़े पांच टेस्ट

  • बबल में शामिल कोई भी खिलाड़ी टूर्नामेंट खत्म होने तक इसके बाहर नहीं जा सकता
  • बबल तोड़ा तो खेलने पर बैन, आरसीबी ने कॉन्ट्रैक्ट खत्म करने की चेतावनी तक दी

रविवार को आईपीएल का शेड्यूल जारी कर दिया गया। टीमें 20 अगस्त के आसपास ही दुबई पहुंच चुकी हैं। सभी खिलाड़ी, कोच, सपोर्ट स्टाफ और मैच ऑफिशियल्स को बायो-सिक्योर इन्वारयर्मेंट (जिसे बायो-बबल भी कहा जा रहा) में रखा गया है। 80 दिन तक इन सभी को इसी में रहना होगा।

तो चलिए समझते हैं कि ये बायो-बबल है क्या? काम कैसे करता है? ये कोरोना से कैसे बचाएगा? अगर किसी खिलाड़ी ने बायो-बबल तोड़ा तो क्या होगा? ऐसे ही सवालों के जवाब खोजते हैं…

1. बायो-बबल क्या है?
आसान भाषा में कहें तो ये एक ऐसा वातावरण है, जिसमें रहने वाला बाहरी दुनिया से पूरी तरह कट जाता है। यानी, आईपीएल में हिस्सा ले रहे प्लेयर, सपोर्ट स्टाफ, मैच ऑफिशियल यहां तक की होटल स्टाफ और कोरोना टेस्ट करने वाली मेडिकल टीम तक को तय दायरे के बाहर जाने की अनुमति नहीं है। इसके दायरे में रहने वाला बाहरी दुनिया के किसी भी व्यक्ति के संपर्क में नहीं आ सकता।

2. ये कैसे काम करता है?

आईपीएल में हिस्सा ले रहे सभी खिलाड़ियों, कोच, सपोर्ट स्टाफ का दुबई पहुंचने से पहले दो बार कोरोना टेस्ट हुआ। दुबई पहुंचने पर सभी को सात दिन के लिए क्वारैंटाइन किया गया। इस दौरान तीन बार कोरोना टेस्ट हुए। जिनकी रिपोर्ट निगेटिव आई वो इस बबल में शामिल हुए। चेन्नई की टीम के 13 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर पूरी टीम का क्वारैंटाइन सात दिन और बढ़ा दिया गया।

बबल में शामिल हर मेंबर को केवल ग्राउंड और उनके होटल में जाने की अनुमति होगी। इसके अलावा ये किसी से नहीं मिल सकेंगे। यहां तक की अपने फैन्स, दोस्त और रिश्तेदारों से भी नहीं। टीवी ब्रॉडकास्ट में शामिल लोगों और बाकी स्टाफ को भी अलग बबल में रखा गया है। बबल में शामिल किसी भी शख्स को टूर्नामेंट खत्म होने तक इसके बाहर जाने की अनुमति नहीं होगी।

3. अगर किसी ने बायो-बबल तोड़ा तो?

तो फिर मुश्किल होगी। बीसीसीआई के मुताबिक, बायो-बबल तोड़ने वाले को आईपीएल कोड ऑफ कंडक्ट के तहत सजा दी जाएगी। अगर खिलाड़ी बायो-बबल तोड़ता है तो उसे कुछ मैच खेलने से रोका भी जा सकता है। इसको लेकर टीमें भी सख्त हैं। मसलन आरसीबी ने पहले से चेतावनी दे रखी है कि अगर किसी खिलाड़ी ने बायो-बबल तोड़ा तो उसे कॉन्ट्रैक्ट से हाथ धोना पड़ सकता है।

4. क्या पहले कभी बायो-बबल तोड़ने का मामला आया है?

इंटरनेशनल क्रिकेट की बात करें तो दो खिलाड़ी बायो-बबल तोड़ चुके हैं। इंग्लैंड वेस्टइंडीज सीरीज के दौरान जोफ्रा आर्चर बायो-बबल तोड़कर एक दोस्त से मिले थे। उसके बाद उन्हें सेल्फ क्वारैंटाइन में जाना पड़ा था। यहां तक की इंग्लैंड टीम मैनेजमेंट ने उन्हें वेस्टइंडीज के खिलाफ दूसरे टेस्ट से बाहर कर दिया था।

इंग्लैंड दौरे पर गई पाकिस्तान टीम के खिलाड़ी मोहम्मद हफीज बायो-बबल तोड़कर परिवार से मिले तो उन्हें पांच दिन के लिए क्वारैंटाइन कर दिया गया। इसके बाद दो बार कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद ही टीम के साथ जुड़ने दिया गया।

शूटिंग पर लौटे संजय दत्त:पत्नी मान्यता ने संजू की फोटो शेयर करते हुए सोशल मीडिया पर लिखा मोटिवेशनल नोट, बोलीं- अच्छे दिन पाने के लिए बुरे दिनों से लड़ना होगा

लंग कैंसर और इलाज की खबरों के बीच संजय दत्त ने सोमवार से रणबीर कपूर के साथ ‘शमशेरा’ की शूटिंग शुरू कर दी है। जिसका एक फोटो भी सामने आया है। इसी बीच उनकी पत्नी मान्यता दत्त ने मंगलवार को सोशल मीडिया पर उनका एक अन्य फोटो शेयर करते हुए उनका हौंसला बढ़ाने की कोशिश की। उन्होंने लिखा कि अच्छे दिन पाने के लिए बुरे दिनों का सामना करना होगा।

मान्यता ने अपनी पोस्ट में लिखा, ‘रूक जाना नहीं तू कहीं हार के… कांटों पे चलके मिलेंगे साये बहार के। हमें अपने जीवन के सबसे अच्छे दिन कमाने के लिए कुछ बुरे दिनों से लड़ना होगा। कभी पीछे मत हटना।’ इसके बाद मान्यता ने हैशटैग लगाते हुए लिखा ‘#प्रेरणा #साहस #शक्ति #प्यार #कृपा #सकारात्मकता #दत्त #चुनौतियां फिर भी #सुंदर जीवन #धन्यवाद भगवान।’

ले चुके कीमोथैरेपी का एक सेशन

इसके साथ ही मान्यता ने संजू बाबा के फिर से शूटिंग शुरू करने से जुड़ी दो खबरों की पेपर कटिंग भी अपनी इंस्टा स्टोरी पर शेयर कीं। खबरों के मुताबिक संजू ने हाल ही में कीमोथैरेपी का एक सेशन लिया था और वे बहुत तेजी से रिकवर कर रहे हैं।

मान्यता ने लिखा था चुप रहना ही बेहतर

इससे पांच दिन पहले अपनी पिछली पोस्ट में मान्यता ने लिखा था, ‘कभी-कभी आपको बस चुप रहना पड़ता है क्योंकि कोई भी शब्द यह नहीं समझा सकता कि आपके दिल और दिमाग में क्या चल रहा है।’

संजय की स्थिति उतनी खराब नहीं जितनी बताई जा रही

संजय ने लीलावती अस्पताल के डॉक्टर जलील पार्कर के अलावा लंग कैंसर के लिए अमेरिका से सेकंड ओपिनियन लिया था। उसके बाद से वे लगातार कोकिलाबेन अस्पताल के डॉक्टरों से संपर्क में हैं। वहां उनका इलाज चल रहा है। कोकिलाबेन के सूत्रों ने बताया कि संजय दत्त को उस लेवल की परेशानी नहीं है, जैसी मीडिया में बताई जा रही है।

फिलहाल देश से बाहर नहीं जाएंगे संजू

बीमारी की स्थिति को देखते हुए संजय फिलहाल इलाज के लिए देश से बाहर नहीं जाएंगे। इस बात की पुष्टि उनके परिवार के कुछ लोगों ने भी की है। बीमारी को शुरुआती दौर में ही ट्रेस कर लिया गया और ट्रीटमेंट शुरू किया गया, जिसके चलते संजय फिलहाल ठीक महसूस कर रहे हैं। खुद संजय ने भी डॉ. जलील पारकर से कहा था कि उन्हें अपनी बची हुई फिल्मों की शूटिंग पूरी करनी है। यही वजह है कि संजू ने एहतियात बरतते हुए अमेरिका का कुछ सालों का वीजा तो ले लिया है लेकिन हाल फिलहाल वे वहां जाने की तैयारी में नहीं है।

8 अगस्त से अब तक अभिनेता का सफर

8 अगस्त को संजय दत्त को सांस लेने में परेशानी हुई थी। जिसके बाद वे हॉस्पिटल में भर्ती हुए। इस दौरान उनकी वाइफ मान्यता और बच्चे दुबई में ही थे। 4 दिन बाद वे हॉस्पिटल से डिस्चार्ज तो हो गए लेकिन 11 अगस्त को उनको लंग कैंसर होने की खबर सामने आई। जिसके बाद उन्होंने काम से ब्रेक लेने की जानकारी दी और उनके इलाज के लिए विदेश जाने के कयास लगाए जाने लगे। हालांकि वे मुंबई के कोकिलाबेन अस्पताल में ही इलाज करवा रहे हैं।

कंगना पर शिकंजे की तैयारी:महाराष्ट्र सरकार एक्ट्रेस के ड्रग्स लेने की जांच करेगी; शिवसेना ने ठाणे में शिकायत की, बीएमसी ने ऑफिस में नोटिस चिपकाया

  • बीएमसी की कार्रवाई पर कंगना ने कहा- मेरे लिए बड़ा खतरा हो सकता है
  • केंद्र से मिली वाई कैटेगरी की सुरक्षा के साथ कंगना 9 सितंबर को मुंबई पहुंचेंगी

कंगना रनोट और शिवसेना के बीच विवाद गहरा गया है। अब महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने कहा कि कंगना के ड्रग्स लेने की जांच की जाएगी। इसके लिए अध्ययन सुमन (शेखर सुमन का बेटा) के एक इंटरव्यू को आधार बनाया है। अध्ययन ने कंगना पर कई आरोप लगाए थे।

अध्ययन का आरोप- कंगना मुझे पीटती थीं
अध्ययन ने डीएनए अखबार को दिए इंटरव्यू में बताया था, “एक पार्टी में कंगना ने मुझे जोर से थप्पड़ मारा तो मैं रो पड़ा। बाद में कार में मुझे पीटा। मैं वो रात कभी नहीं भूल सकता। मैंने उसे घर छोड़ा तो उसने सैंडल उतारकर मुझ पर फेंकी। मेरा फोन तक दीवार पर मारकर तोड़ दिया। कंगना ने मुझे घर बुलाकर उसके बेहतर करियर के लिए पूजा कराई और रात 12 बजे कुछ चीजें श्मशान घाट में फिंकवाईं।”

कंगना के खिलाफ राजद्रोह का केस दर्ज हो सकता है
वहीं, मंगलवार को ही शिवसेना की आईटी सेल ने कंगना रनोट के खिलाफ ठाणे के श्रीनगर पुलिस स्टेशन में शिकायत की है। आईटी सेल की मांग है कि कंगना पर राजद्रोह का केस दर्ज किया जाए, क्योंकि उन्होंने मुंबई की तुलना पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) से की थी। इस मांग पर पुलिस कानूनी राय ले रही है।

बीएमसी ने कंगना के ऑफिस में अवैध निर्माण का नोटिस चिपकाया
बीएमसी ने नोटिस चिपका कर 24 घंटे में जवाब मांगा है। कंगना ने खुद ट्वीट कर इसकी जानकारी दी। उन्होंने लिखा, “सोशल मीडिया पर मेरे दोस्तों ने बीएमसी के खिलाफ गुस्सा जाहिर किया था, इसलिए वे आज बुल्डोजर लेकर नहीं आए। लेकिन, ऑफिस में नोटिस चिपका दिया। दोस्तो मेरे लिए बहुत खतरा हो सकता है, लेकिन आपका प्यार और सपोर्ट मिल रहा है।”